Solar panel subsidy: सबसे सस्ता 1kW सोलर आपको सब्सिडी के बाद मिलेगा और भी कम कीमत

 Solar panel subsidy: सबसे सस्ता 1kW सोलर आपको सब्सिडी के बाद मिलेगा और भी कम कीमत 


Solar panel subsidy

छोटे घरों के लिए 1 किलोवाट का सोलर पैनल एक अच्छा डिसिशन हो सकता है। सोलर पैनल आज तेजी से पॉपुलर हो रहे हैं क्योंकि बिजली की लागत पहले की तुलना में काफी बढ़ गई है। साथ ही घरों में इलेक्ट्रिकल एप्लायंस की संख्या भी बढ़ गई है। हम सभी जानते हैं कि ज्यादातर बिजली कोयले से पैदा होती है जो हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचाती है


पर्यावरण को प्रदूषित न करने और उसे बचाने के लिए सोलर एनर्जी का उपयोग एक बेहतर उपयोग है। इस उद्देश्य से सरकार सोलर एनर्जी के उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए सब्सिडी भी प्रोवाइड कर रही है। अगर आप अपने घर पर सोलर पैनल लगवाना चाहते हैं तो इस आर्टिकल में हम बात करेंगे 1 किलोवाट कैपेसिटी के सोलर सिस्टम लगाने में कितना खर्चा आता है।


1kW सोलर सिस्टम के लिए सोलर पैनल की कॉस्ट


1 किलोवाट का सोलर पैनल लगाने की लागत पैनल के टाइप और आपके द्वारा चुनी गई कंपनी पर निर्भर करता है। आप जितनी अच्छी कंपनी और जिस प्रकार का पैनल चुनेंगे आप उतनी ही ज्यादा एफ्फिसिएंट तरीके से बिजली पैदा कर सकेंगे।


पॉलीक्रिस्टलाइन पैनल – ₹28,000

मोनोक्रिस्टलाइन पैनल – ₹30,000

हाफ-कट पैनल – ₹35,000

बाइफेशियल पैनल – ₹38,000

1kW सोलर सिस्टम के लिए सोलर इन्वर्टर और बैटरी की कीमत

1 किलोवाट सोलर पैनल सिस्टम की कीमत तीन टाइप के सिस्टम के आधार पर अलग-अलग होती है। इन कीमतों में थोड़ा अंतर हो सकता है क्योंकि हर राज्य में कीमतों में अंतर होता है। सोलर सिस्टम के लिए इन्वर्टर चुनते समय, आपको अपने घर की बिजली के लोड की जानकारी होनी चाहिए और फिर उसके अनुसार इन्वर्टर का सिलेक्शन करना चाहिए। आमतौर पर 1kW सोलर सिस्टम के लिए 2500VA 2400-वोल्ट इन्वर्टर चुना जाता है। इसी तरह बैटरी चुनते समय आपको बैटरी की वारंटी पर विशेष ध्यान देना चाहिए और आप अपनी सुविधा के अनुसार बैटरी की संख्या चुन सकते हैं। 1kW के लिए, आमतौर पर 150AH की दो बैटरियां चुनी जाती हैं।

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम की कीमत


अगर आप अपना बिजली बिल कम करना चाहते हैं तो ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम लगा सकते हैं। इस सिस्टम के मेन कॉम्पोनेन्ट सोलर पैनल, इनवर्टर और एक नेट मीटर हैं। इस सिस्टम में बैटरी शामिल नहीं है इसलिए इसकी कॉस्ट बाकी सिस्टम की तुलना में कम होती है। ऐसे सोलर सिस्टम का उपयोग किया जा सकता है जहां पावर कट की कोई समस्या नहीं है। भले ही आपके क्षेत्र में पावर कट की कोई समस्या नहीं है फिर भी आप इस सिस्टम को इंस्टॉल करके अपने बिजली बिलों में बचत कर सकते हैं।


सोलर पैनल – ₹30,000

सोलर इन्वर्टर – ₹15,000

नेट मीटर – ₹3,000

मॉउंटिंग स्ट्रक्चर – ₹2,000

एक्सेसरीज – ₹3,000

इंस्टालेशन चार्ज – ₹2,000

टोटल कॉस्ट – ₹55,000


ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम की कीमत

अगर आपके एरिया में पावर कट ज्यादा होते हैं तो आप एक ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम का विकल्प चुन सकते हैं। इस सिस्टम के साथ, आप सौर पैनलों का उपयोग करके दिन के दौरान बिजली जनरेट कर सकते हैं और बिजली उपलब्ध न होने पर उपयोग के लिए इसे बैटरी में सोत्रे कर सकते हैं जिसका उपयोग आप रात में कर सकते हैं। एक ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम के मुख्य कॉम्पोनेन्ट में सोलर पैनल, सोलर इनवर्टर और सोलर बैटरी हैं।


सोलर पैनल – ₹30,000

सोलर इन्वर्टर – ₹15,000

सोलर बैटरी – ₹24,000

मॉउंटिंग स्ट्रक्चर – ₹2,000

एक्सेसरीज – ₹3,000

इंस्टालेशन कॉस्ट – ₹2,000

टोटल कॉस्ट – ₹74,000

Post a Comment

if you have any doubts, please let me know

और नया पुराने